About Dharshan Yog

Download Category

उत्कृष्ट शंका-समाधान (Utkrist Shanka Samadhan)

समाधानकर्ता - स्वामी विवेकानन्द जी परिव्राजक संपादक- डॉ. राधावल्लभ जी चौधरी पुस्तक साईज- 22 x 14 cm कुल पृष्ठ- 344 मूल्य- 65 रुपये पुस्तक विवरण- मानव मन को आंदोलित करने वाले लौकिक- पारलोकिक अनेक प्रश्नों के दार्शनिक तथा तार्किक रूप से सटीक उत्तर ।


  17.0 mb

  2014 , September 02

तत्वज्ञान (TATVGYAN)

लेखक - स्वामी विवेकानन्द जी परिव्राजक पुस्तक साईज- 22 x 14 cm कुल पृष्ठ- 88 मूल्य- 20 रूपये पुस्तक विवरण- प्रस्तुत पुस्तक में ईश्वर और आत्मा इन दो पदार्थों के यथार्थ स्वरूप को न्याय दर्शन की पंचावयव पद्धति से समझाने का प्रयास किया गया है। आर्य समाज के द्वितीय नियम को आधार बनाकर ईश्वर के गुणों की सिद्धि पंचावयवों से की गई है तथा अनेकत्र इन विषयों से सम्बन्धित भ्रान्त मान्यताओं का भी निवारण किया गया है। इन पदार्थों के यथार्थ स्वरूप को जानकर ही मनुष्य सम्पूर्ण दुःखों से छूटकर पूर्ण तथा स्थाई सुख को प्राप्त कर सकता है।


  354 KB

  2014 , October 10

दुःख-स्वरूप,कारण और निवारण

लेखक - स्वामी विवेकानन्द जी परिव्राजक पुस्तक साईज- 22 x 14 cm कुल पृष्ठ- 52 मूल्य- 10 रूपये पुस्तक विवरण- दुःख क्यों उत्पन्न होता है, उसका मूल कारण व उस दुःख को दूर करने का उपाय । तत्त्वज्ञान के बारे में जो भ्रमित विचार है, उसे दूर करने का उपाय बताया गया है ।


  241 kb

  2014 , October 10

सन्तान निर्माण (SANTAN NIRMAN)

प्रवचनकर्ता - स्वामी विवेकानन्द जी परिव्राजक संपादक- डॉ. राधावल्लभ जी चौधरी पुस्तक साईज- 11.5 x 8 cm कुल पृष्ठ- 48 मूल्य- 5 पुस्तक विवरण- लड़का यदि दुष्ट व्यसन में पड़ जाये तो उसे कैसे सुधारा जा सकता है ? बच्चों के निर्माण का विज्ञान क्या है? कब-कब कैसे शिक्षा देना चाहिए ? आदि विषयक स्पष्टीकरण ।


  148 KB

  2014 , October 10

दुःख-स्वरूप,कारण और निवारण (duhkh-svaroop, karan ane nivarn

लेखक - स्वामी विवेकानन्द जी परिव्राजक अनुवादक - भावेश मेरजा पुस्तक साईज - 22 x 14 cm कुल पृष्ठ- 52 मूल्य- 10 रुपये पुस्तक विवरण- दुःख क्यों उत्पन्न होता है, उसका मूल कारण व उस दुःख को दूर करने का उपाय । तत्त्वज्ञान के बारे में जो भ्रमित विचार है, उसे दूर करने का उपाय बताया गया है ।


  131 kb

  2014 , October 11

जीवनोपयोगी सन्देश (JIVANOPYOGI SANDESH)

सूक्तिकार - स्वामी विवेकानन्द जी परिव्राजक संपादक- डॉ. राधावल्लभ जी चौधरी पुस्तक साईज - 22 x 14 cm कुल पृष्ठ- 64 मूल्य- 15 रूपये पुस्तक विवरण- व्यावहारिक, सामाजिक व आध्यात्मिक उन्नति के लिए अनमोल वचन ।


  13.6 mb

  2014 , October 11

क्रोध को कैसे दूर करें? तथा सत्य बोलने से लाभ, झूठ बोलने से हानियाँ

लेखक - स्वामी विवेकानन्द जी परिव्राजक पुस्तक साईज- 11.5 x 8 cm कुल पृष्ठ- 16 मूल्य- 4 रुपये पुस्तक विवरण- क्रोध को दूर करने के उपाय तथा सत्य बोलने से लाभ,झूठ बोलने से हानियाँ ।


  6.91mb

  2014 , October 11

सफलता का संसार (SAFALTA KA SANSAR)

लेखक - डॉ. राधावल्लभ जी चौधरी पुस्तक साईज - 16 x 11 CM कुल पृष्ठ - 303 मूल्य- 150 रुपए पुस्तक विवरण- लेखक डॉ. राधावल्लभ जी चौधरी को सफलता और जीवन निर्माण के विषय में दर्शन योग महाविद्यालय के विद्वानों से जो विशेष ज्ञान प्राप्त हुआ है, उसे बेहद सरल, सुबोध, आकर्षक, रोचक-दिलचस्प भाषा में 700 से अधिक रंगीन चित्रों और महाविद्यालय के अनुभवी मार्गदर्शकों के 35 से अधिक अनमोल वचनों (कोटेशन) के साथ प्रस्तुत है। 


  5.05 mb

  , December

ब्रह्म विज्ञान (BRAHAM VIJYAN)

प्रवचनकर्ता- स्वामी सत्यपति परिव्राजक संकलयिता-रणसिंह आर्य पुस्तक साईज - 22 x 14 cm कुल पृष्ठ – 196 मूल्य - 25 रुपए पुस्तक विवरण - क्रियात्मक योग प्रशिक्षण शिविरों के प्रवचनों के आधार पर संकलन ।


  560 KB

  2014 , October 17

योग मीमांसा (YOG MIMANSA)

लेखक - स्वामी सत्यपति परिव्राजक पुस्तक साईज - 22 x 14 cm कुल पृष्ठ - 152 मूल्य - 15 रुपए पुस्तक विवरण- योग का यथार्थ स्वरूप तथा योग से संबन्धित भ्रांतियों का निराकरण।


  6.41 MB

  2014 , October 17

ब्रह्ममेधा (BRAHMMEDHA)

लेखक - स्वामी सत्यपति जी परिव्राजक संपादक - स्वामी ब्रह्मविदानन्द सरस्वती पुस्तक साईज - 22 x 14 cm कुल पृष्ठ – 418 मूल्य - 100 रुपए पुस्तक विवरण - इसमें पूज्य स्वामी सत्यपति जी महाराज के अब तक के जीवन का आध्यात्मिक अद्‍भुत ज्ञान विज्ञान प्रस्तुत किया गया है । मुख्यतः 2003 में सम्पन्न तीन मास के एक उच्चस्तरीय साधना योग शिविर में उनके द्वारा जो अपने विस्तृत आध्यात्मिक अनुभवों को स्वामी ब्रह्मविदानन्द सरस्वती जी के द्वारा संकलित कर संपादित किया गया है ।


  998 KB

  2014 , October 17

आर्यों के सोलह संस्कार (ARYON KE SOLAH SANSKAR)

लेखक -आचार्य ज्ञानेश्वर जी आर्य पुस्तक साईज - 22 x 14 cm कुल पृष्ठ – 34 मूल्य - 6 रुपए पुस्तक विवरण - मानव की शारीरिक, मानसिक व आत्मिक उन्नति के लिए ऋषि मुनियों ने जन्म से मृत्यु पर्यन्त जिन सोलह संस्कारों की व्यवस्था की है, प्रस्तुत पुस्तक में उनके नाम, समय, लाभ, न करने से हानियाँ, संस्कारों में किये जाते विधि-विधानों का वैज्ञानिक विश्लेषण आदि अनेक महत्त्वपूर्ण विषयों पर प्रकाश डालने का प्रयास किया गया है।


  1.78 MB

  2014 , October 17

वेद प्रार्थना भाग - 1 (VED PRARTHANA PART - 1)

लेखक - आचार्य ज्ञानेश्वर जी आर्य पुस्तक साईज - 22 x 14 cm कुल पृष्ठ – 80 मूल्य - 10 रुपए पुस्तक विवरण - वेद तथा वैदिक धर्म, संस्कृति, सभ्यता, रीति-नीति की महत्ता का उपयोगिता का बोध हो और वेदों के प्रति रुचि लोगों की बढ़े, इस अर्थ में वेद मंन्त्रो की व्याख्या, शब्दार्थ, अर्थ व भाव प्रकट करने का प्रयास किया गया है।


  442 KB

  2014 , October 17

प्रवचनमाला (PRVACHANMALA)

लेखक - आचार्य ज्ञानेश्वर जी आर्य संग्रहकर्ता व संपादक - डॉ. राधावल्लभ जी चौधरी पुस्तक साईज - 22 x 14 cm कुल पृष्ठ – 120 मूल्य - 20 रुपए पुस्तक विवरण - वर्ष 2004 में दिये गये आचार्य ज्ञानेश्वरार्य जी के प्रवचनों को क्रमशः लिपिबद्ध सम्पादित कर वैश्विक जन समूह को लाभ मिले इस अर्थ में प्रकाशित की गई है। विद्यालय के नियमानुसार जीवनी बनाने से दुःख स्मृति, चिंता, अज्ञानता, अयोग्यता और रोग घटते हैं तथा सहनशीलता सुख, शांति, एकाग्रता, बुद्धि, स्मृति, ज्ञान और वैराग्य का भाव विकसित होता है।


  313 KB

  2014 , October 17

क्रियात्मक योगाभ्यास (KRIYATMAK YOGABHAYAS)

लेखक - आचार्य ज्ञानेश्वर जी आर्य पुस्तक साईज - 17 x 12 cm कुल पृष्ठ – 64 मूल्य - 10 रुपए पुस्तक विवरण - प्रस्तुत पुस्तक में योगाभ्यास के लिए आवश्यक निर्देश, योग के आठ अंगों की व्याख्या तथा वैदिक संध्या की सरल व्याख्या है ।


  1.47 MB

  2014 , October 17

ईश्वर सिद्धि (ISHWER SIDHI)

लेखक - आचार्य ज्ञानेश्वर जी आर्य पुस्तक साईज - 17 x 12 cm कुल पृष्ठ – 32 मूल्य - 3 रुपए पुस्तक विवरण - प्रस्तुत लघु पुस्तिका में न्यायदर्शन की ‘पंचावयव’ प्रक्रिया से नास्तिक और आस्तिक के पाँच संवादों द्वारा ईश्वर के सच्चे स्वरूप का अत्यंत सरल एवं रोचक ढंग से परिचय कराया गया है। आज देश में हजारों मत, पंथ, सम्प्रदायों के द्वारा ईश्वर, धर्म, पूजा, उपासना, कर्मकाण्ड का ऐसा विकृत तथा अवैज्ञानिक स्वरूप फैलाया गया है कि जिसके कारण अधिकांश मनुष्यों के विचारों और व्यवहारों में नास्तिकता की जड़ें गहरी होती जा रही हैं। इस अविद्या रूपी अन्धकार को दूर करने में यह लघु पुस्तिका दीपक का कार्य करेगी।


  1.06 MB

  2014 , October 17

समस्या समाधान (SAMSYA SAMADHAN )

लेखक - आचार्य ज्ञानेश्वर जी आर्य संपादक - डॉ. राधावल्लभ जी चौधरी पुस्तक साईज - 22 x 14 cm कुल पृष्ठ – 192 मूल्य - 60 रुपए पुस्तक विवरण - जीवन में कई प्रकार की आध्यात्मिक व भौतिक समस्यायें दैनिक आती रहती हैं। इनसे निपटने व सही मार्ग पकड़ने का चिन्तन इसमें किया गया है। व्यक्तिगत से लेकर राष्ट्रीय स्तर तक की समस्याओं का सुझाव बताने का प्रयत्न भी किया गया है।


  1.22 MB

  2014 , October 17

परमात्मा जीवात्मा और प्रकृति (PARMATMA, JIVATMA AUR PRKIRTI)

लेखक - स्वामी शांतानन्द जी परिव्राजक पुस्तक साईज - 22 x 14 cm कुल पृष्ठ – 48 मूल्य - 7 रुपए पुस्तक विवरण - ईश्वर, आत्मा(जीव) तथा प्रकृति के विषय में यथार्थता क्या है ? यह दर्शाने के लिए सरल, सरस, रोचक, तुलनात्मक शैली में इस पुस्तक में रचना की गई है । जिससे व्यक्ति सरलता व सुगमता से परमात्मा, आत्मा विषयक यथार्थ रूप में असमानताओं और समानताओं से पृथक् - पृथक् रूप में आध्यात्मिक विज्ञान को समझ सके ।


  273 KB

  2014 , October 18

CAUTION (सावधान)

लेखक - GYAANESHWAR AARYA पुस्तक साईज - 13.5 x 11.5 cm कुल पृष्ठ – 32 मूल्य - 0 पुस्तक विवरण - प्रस्तुत पुस्तक में उन भारतियों को सावधान किया गया है जो यह सोचते हैं कि विदेशियों की संस्कृति भारतियों की संस्कृति से उत्तम है ।


  1.42 MB

  2014 , October 18

Who is God (ईश्वर कौन है )

लेखक - SUDHIR ANAND पुस्तक साईज - 22 x 14 cm कुल पृष्ठ – 216 मूल्य - 50 RUPEES पुस्तक विवरण - Attributes of God based on Vedas and a comparison and contrast with those in the Abrahamic faiths and later Hindu Scriptures.


  2.77 MB

  2014 , October 18