Menu

Latest Update

  • All ebook discounts from 30% to 100% of this facility only in the Vedic goods store till 31/01/2019 . 31,July 2018 Read More
  • सभी पुस्तक में छूट 10% से 50% पर्यन्त यह सुविधा केवल 30/06/2018 तक वैदिक वस्तु भंडार में . 15,November 2018 Read More
  • वैदिक वस्तु भंडार के विमोचन हुआ है । vedic commodity store now started. 15,November 2018 Read More
  • दर्शन योग महाविद्यालय, सुंदरपुर - प्रवेश सूचना . 31,July 2018 Read More
  • दर्शन योग महाविद्यालय, रोजड में प्रवेश प्रारम्भ. 31,July 2018 Read More

दर्शन योग महाविद्यालय

आर्यवन, रोजड

(वैदिक दर्शन अध्यापन एवं ध्यान योग प्रशिक्षण का आदर्श संस्थान)

 

दर्शन योग महाविद्यालय की स्थापना चैत्र शुक्ला प्रतिपदा विक्रम संवत् २०४३ (१०अप्रैल१९८६) को श्री स्वामी सत्यपति जी परिव्राजक द्वारा हुई । वर्तमान में स्वामी विवेकानंद परिव्राजक (निदेशक)स्वामी ब्रहमविदानन्द सरस्वती (आचार्य), स्वामी ध्रुवदेव परिव्राजक (कार्यकारी आचार्य), आचार्य प्रियेश (उपाचार्य), आचार्य ईश्वरानंद (कार्यकारी उपाचार्य), आचार्य दिनेश कुमार (व्यवस्थापक) के पद पर कार्यरत है । 

दर्शन योग साधना आश्रम

कुरुक्षेत्र, हरियाणा

(वैदिक योग साधना एवं योग प्रशिक्षण का आदर्श संस्थान)

 

अभ्युदय (लौकिक उपलब्धियाँ) और निःश्रेयस (मोक्ष) वैदिक भारतीय संस्कृति की विरासत है और इसको आत्मसात् किए बिना मानव जीवन की सफलता असम्भव है। अतः इसकी रक्षा और वृद्धि हम सबका एक अनिवार्य कर्त्तव्य बन जाता है। इसी उद्देश्य से दर्शन योग धर्मार्थ ट्रस्ट की ओर से ‘दर्शन योग साधना आश्रम’ के नाम से एक नई और विशिष्ट योजना का शुभारम्भ दिनांक ३०/१०/२०१६ को गीता प्रादुर्भाव की पुण्यभूमि कुरुक्षेत्र, हरियाणा से किया गया है । वहाँ तीन बीघा भूमि है उसमें 4 साधना कुटिरों का निर्माण किया गया है। वर्तमान में उच्चस्तरीय साधना का अनुष्ठान आरम्भ हो गया है । अब तक इस पुनीत कार्य में लगभग 50 लाख रुपये राशि व्यय हो चुकी है । तथा दर्शन योग महाविद्यालय के  आचार्य विद्वान आदि उच्चस्तरीय योग साधना कर रहें हैं ।

वैदिक परिषद

रोजड़, गुजरात

(वैदिक धर्म की रक्षा और समृद्धि का आदर्श संस्थान)

 

दर्शन योग धर्मार्थ ट्रस्ट अपने पूर्वजों ऋषि-मुनियों के द्वारा अनुपालित परम्पराओं की अनमोल थाती को सुरक्षित रखने के लिए सदैव प्रयासशील है । आर्य समाज में योग-विद्या में आदर्श माने जाने वाले पूज्य स्वामी सत्यपति जी परिव्राजक की यह अभिलाषा रही है कि समाज में ऐसे सत्यवादी परोपकारी दार्शनिक आदर्श योगियों का निर्माण किया जाये, जिनका मुख्य उद्देश्य निष्ठापूर्वक ईश्वर, जीव, प्रकृति व भौतिक पदार्थों का वैदिक ज्ञान-विज्ञान आदान-प्रदान करना हो । यह सब कार्य समान लक्ष्य वाले व्यक्तियों के धार्मिक संगठन द्वारा ही सम्भव है । दर्शन योग धर्मार्थ ट्रस्ट ने अपने ऐसे संगठन-निर्माण का निश्चय किया है ।

सफ़लता विज्ञान

सफलता विज्ञान परियोजना 

उद्देश्य - मनोरंजक  शैली में आम जन (1) पढ़ाई, (2) नौकरी (प्रशासनिक दक्षता), (3) व्यापार, (4) व्यवहार और (5) साधना आदि के क्षेत्र मे सफलता प्राप्त करने के रहस्य को जानकर सफलता के शिखर को छू सकें । यह लक्ष्य है, जिसे पूरा करने के लिए सफलता विज्ञान परियोजना की टीम इस विषय में अनुसंधान, सृजन और प्रचार का कार्य कर रही है । यह दर्शन योग महाविद्यालय की सबके साथ मिलकर कार्यान्वित करने वाली एक अभिनव परियोजना है ।

Our Team